सोमवार, जनवरी 30, 2012

साइज जीरो की चक्करघिन्नी


इसे आप डायरी का एक पन्ना कह सकते हैं, जिसमे एक माँ ने अपनी नन्ही बच्ची के सवालों को कलमबद्ध किया है-
"मम्मा! साइज जीरो क्या है?" जैसे ही मेरी नन्ही बिटिया ने मुझसे यह सवाल पूछा मुझे समझ ही नहीं आया कि मैं उसकी इस बात का क्या जवाब दूं। उसने मुझे न्यूजपेपर का वह पन्ना भी दिखाया जिस पर किसी हीरोइन की तस्वीर छपी थी और नीचे लिखा था साइज जीरो। काफी सोच-विचारकर मैंने उसे जवाब दिया- साइज जीरो यानी तुम्हारी साइज की, करीब दस-ग्यारह साल की लड़की। उसकी जिज्ञासा यहीं शांत नहीं हुई। उसने दुबारा पूछ लिया- यहां लिखा है कि यह हीरोइन कवेटेड (इच्छित) साइज जीरो की है। कवेटेड क्या होती है मम्मी? मुझे लगा कि मैं फिर से अटक गई। मैं अपनी नन्ही लाडली के रोजाना पूछे गए सवालों से परेशान हो जाती हूं। कभी उसे मेंसेज का मतलब पूछना होता है तो कभी ओरल सेक्स का तो कभी डेट रेप का। उसके मन में इतने सवाल होते हैं कि मैं सबके जवाब दे दूं फिर भी उसकी जिज्ञासा शांत नहीं होगी, यह मुझे भली-भांति पता है।
खैर, मैं जब तक उसे बताती, उससे पहले उसने डिक्शनरी में अर्थ ढूंढ निकाला। उछलते-कूदते मेरे पास आई और कहा कवेटेड का मतलब होता है- आपकी चाहत। है न मम्मा? तो क्या कुछ लड़कियां हमारे जैसी फिगर चाहती हैं। वे ऐसा क्यों चाहती हैं मम्मा? आखिर इसके पीछे का कारण क्या है? मुझे उस समय लगा कि मैं बहरी क्यों नहीं हूं। मुझसे इतने सवाल क्यों पूछे जाते हैं। मुझे अपने बचपन के दिन याद आने लगे, जब हमसे कक्षा में भी टीचर जी इतने सवाल नहीं पूछती थी। यही नहीं, जब हमारे मन में कोई सवाल उठता था तो हम अपनी मां से पूछने से भी डरते थे। कभी-कभार खुदा-न-खास्ता कोई सवाल पूछ डाला और मां का मूड ठीक नहीं रहा तो बकरे की खैर नहीं। उनके मुंह से बोलियों की झड़ी जो निकलती, वो थमती नहीं थी। और यदि बाबूजी या दादी से उन्हें डांट पड़ चुकी होती तो बस पूछो ही मत। तीन-चार धौल तो पीठ पर पड़ ही जाती थी मेरे। हमारे जमाने और अब के जमाने में कितना अंतर आ गया है, इसका पता तो इसी से चलता है कि पहले की फिल्मों में जहां प्यार के नाम पर दो फूलों को मिलते दिखाया जाता था तो वहीं अब की फिल्मों में लिप-लॉक तो आम बात है।
हां, फिल्मों के नाम से याद आया। मेरी बिटिया साइज जीरो के बारे में पूछ रही थी। मैंने उसे डांटा और कहा कि क्या तुम्हें कुछ और पढ़ने को नहीं है? क्या तुमने साइंस का वह चैप्टर खत्म कर लिया जो मैंने कल तुम्हें पढ़ाया था? जवाब धुआंधार मिला- हां मम्मा, कल ही पूरा हो गया था। फिर उसने पूछा, मम्मी प्लीज बताओ न हीरोइन साइज जीरो क्यों होना चाहती हैं? लगभग हारते हुए मैंने कहा- इसलिए क्योंकि वे फैट फ्री होना चाहती हैं ताकि स्क्रीन पर ग्लैमरस दिखें। तपाक से उसने कह डाला- पर मम्मा साइंस की किताब में तो लिखा है कि हेल्दी रहने के लिए प्रोटीन, विटामिन, मिनरल के साथ फैट की भी जरूरत फड़ती है। तो क्या किताब में गलत लिखा है? मुझे महसूस हो गया कि मैंने शेर के मांद में हाथ डाल दिया है। अब तो मुझे जवाब देना ही पड़ता, सो मैंने कहा- किताब में गलत नहीं लिखा है बेटा। हम आकर्षक दिखने के लिए कई बार गलत काम कर जाते हैं। जीरो फैट के साथ हमारे हार्मोंस काम नहीं करते। हार्मोंस क्या होते हैं मम्मा? और वे क्यों काम नहीं करते हैं? मैंने हार कर जवाब दिया- यह सब भूल जाओ बेटा, अपनी पढ़ाई करो या गेम खेलो। पर वह हार नहीं मानने वाली थी। उसने कहा- तो क्या मम्मा तुम साइज जीरो नहीं चाहती?
मेरी आंखों के सामने पिचकी कार सी मॉडल्स की तस्वीरें घूमने लगीं। मुझे वह समय याद आने लगा जब मैं भी वजन मापने की मशीन पर चढ़ जाती हूं। खैर! मैंने उसे कहा- बेटा! आकर्षक तो सभी दिखना चाहते हैं। मैं भी चाहती हूं लेकिन तुम्हारी जैसी नहीं। यह सुनकर वह अपने कमरे में चली गई और मैंने राहत की सांस ली। मैंने किचन में खाना पकाना शु डिग्री ही किया था कि फिर से चेहरे पर सवालों का मेकअप पोतकर सामने आ गई। मैंने पूछा- अब क्या? मम्मा बुलीमिया नर्वोसा क्या होता है? मैं चुप रही। क्या मैं इंटरनेट पर देख लूं? अब मैं चुप नहीं रह पाई, मुझे लगा कि मेरे अंदर काली मां जागृत हो गई हैं। मैंने बेलन हाथ में लिए कहा- यह सब तुम कहां पढ़ रही हो? बिटिया ने कहा- तुमने ही न्यूजपेपर पढ़ने कहा था। मैंने जवाब दिया- कुछ लोग खाते हैं और फिर उल्टी करके बाहर निकाल देते हैं ताकि वे दुबले रह सकें। यह कैंसर की तरह होता है, मुश्किल से ठीक होता है। ओह हो! मम्मा तो ये बेचारे कुछ नहीं कर पाते होंगे ना? कितने बीमार रहते होंगे, फिर ये कैसे फिल्मों में काम करते हैं? यानी कि बुलीमिया नर्वोसा का मतलब उल्टी करने वाला कैंसर है? और कवेटेड साइज जीरो ही उल्टी करने पर मजबूर करता है? मेरा मन किया कि मैं अपने बाल नोच लूं, खुद को आलमारी में बंद कर लूं ताकि मेरी बिटिया मुझसे सवाल पूछना बंद कर दे। मैंने उसे जवाब दिया- मुझे नहीं पता बेटा। चलो, हम लोग पड़ोस वाली आंटी के घर चलते हैं। उसने कहा- नहीं मम्मा, मेरी स्टेशनरी खरीदवाने चलो। मुझे लगा कि कम से कम कुछ समय के लिए तो मैंने मुक्ति जरूर पा ली है। दोनों खरीदारी के लिए निकल पड़े कि उसने पूछ डाला- अच्छा मम्मा, सेक्सुअल एपेटाइट क्या होता है? मुझे लगा कि मैं उसे छोड़कर भाग निकलूं। आखिर उसके इस सवाल का मेरे पास कोई जवाब नहीं था।

1 टिप्पणी:

arvind ने कहा…

bahut badhiya lagaa size zero kaa khel ki story...very nice.